Friday, February 24

भारत के नेपोलियन बोनापार्ट यशवंतराव होळकर , जिन्होंने अंग्रेजो के साथ कभी समझौता नहीं किया

 

यह एक पत्र का अंश है, जो एक अंग्रेज जनरल ने अपने अधिकारियों को लिखा था। ये पंक्तियां यशवंतराव के शौर्य-गाथा को परिभाषित करती हैं। यशवंतराव एक ऐसे भारतीय शासक थे, जिन्होंने अकेले दम पर अंग्रेजों को नाकों चने चबाने पर मजबूर कर दिया था।

हालत यह थी कि अंग्रेज हर हाल में बिना शर्त समझौता करने को तैयार थे। यशवंतराव होलकर को अपनों ने ही बार-बार धोखा दिया, इसके बावजूद वे जंग के मैदान से कभी पीछे नहीं हटे।
यशवंतराव होलकर विश्व के महान शासकों में से एक थे, इसके बावजूद वे इतिहास के पन्नों में जैसे खो गए हैं। अचरज की बात यह है कि आज भी लोगों को उनके बारे में नहीं पता। इतिहासकार एन एस इनामदार ने यशवंतराव की तुलना नेपोलियन बोनापार्ट से की है।

यशवंतराव होलकर का जन्म वर्ष 1776 में हुआ था। होलकर के बड़े भाई को ग्वालियर के शासक दौलतराव सिंधिया ने छल से मरवा दिया था। इसके बाद पश्चिम मध्यप्रदेश की मालवा रियासत को यशवंतराव ने संभाला। होलकर न केवल चतुर थे, बल्कि बहादुरी में भी उनका सानी नहीं था।

उनकी वीरता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वर्ष 1802 में उन्होंने अपने भाई का बदला लेते हुए पुणे के पेशवा बाजीराव द्वितीय व सिंधिया की मिलीजुली सेना को मात दे दी और इंदौर वापस आ गए।

 

इसी दौर में अंग्रेजों का भी वर्चस्व बढ़ रहा था। रियासतों को डरा-धमका कर और लालच देकर अंग्रेजी शासन में मिलाया जा रहा था। यह होलकर को बिल्कुल भी मंजूर नही था।

अंग्रेजों का मुकाबला करने के लिए उन्होंने नागपुर के भोंसले और ग्वालियर के सिंधिया से एक बार फिर हाथ मिलाया और अंग्रेजों को मार भगाने का प्रण लिया। लेकिन पुरानी दुश्मनी के कारण भोंसले और सिंधिया ने उन्हें फिर धोखा दिया और यशवंतराव एक बार फिर अकेले पड़ गए।

इसके बाद उन्होंने अकेले अपने दम पर अंग्रेजों को छठी का दूध याद दिलाने की ठानी। 8 जून 1804 को उन्होंने अंग्रेजों की सेना को धूल चटाई। फिर 8 जुलाई 1804 में कोटा में अंग्रेजों को पराजय का सामना करना पड़ा। अंग्रेज हर कोशिश में नाकाम हो रहे थे।

अंग्रेजों ने पुन: नवंबर में कोशिश की और बड़ा हमला किया। इस युद्ध में भरतपुर के महाराज रंजीत सिंह के साथ मिलकर यशवंतराव होलकर ने अंग्रेजों को परास्त कर दिया। कहा जाता है कि इस युद्ध में यशवंतराव की सेना ने 300 अंग्रेजों के नाक काट लिए थे।

loading...
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *